BETUL : कोयला व्यापारी की हत्या कर दफनाया

छिंदवाड़ा बैतूल

मोबाइल कॉल डिटेल के आधार पर 130KM दूर बैतूल से छिंदवाड़ा पहुंची पुलिस, मक्का के खेत में मिली लाश, दो संदिग्ध हिरासत में

राधेश्याम उधारी वसूलने घर से निकले थे, लेकिन फिर घर नहीं लौटे। - Dainik Bhaskar

राधेश्याम उधारी वसूलने घर से निकले थे, लेकिन फिर घर नहीं लौटे।

बैतूल: दो दिन से लापता एक कोयला व्यापारी का शव पुलिस ने 130 किमी दूर छिंदवाड़ा जिले के एक गांव से बरामद किया है। व्यापारी की हत्या कर दफना दिया गया था। सीसीटीवी फुटेज और कॉल डिटेल के आधार पर पुलिस आरोपियों तक पहुंची। मामले में दो संदिग्धों को हिरासत में लिया गया है।

आमला थाना इलाके के शिवपुरी के रहने वाले 36 साल के राधेश्याम पिछले मंगलवार को उधारी वसूलने घर से निकला था।लेकिन वह देर रात तक वापस नहीं लौटा। परिजनों ने तलाशने के बाद आमला थाने में गुमशुदगी दर्ज करवाई थी। बुधवार पुलिस को व्यापारी की बाइक बोरदेही के खेड़ली बाजार के पास बेल नदी में मिली थी। गुरुवार को व्यापारी की लाश छिंदवाड़ा के सिमरिया लिमोटी में मिली। उसकी लाश को मक्के के खेत में दफना दिया गया था। पुलिस ने लाश बरामद कर संदेह के आधार पर दो आरोपियों को हिरासत में लिया है।

सीसीटीवी खंगाले, काॅल डिटेल भी निकाली
एसपी सिमाला प्रसाद ने व्यापारी के लापता होने के मामले में एसडीओपी नम्रता सोंधिया के नेतृत्व में एक टीम गठित की थी। पुलिस ने बोरदेही, खेड़ली, धनगौरी समेत कई इलाके के सीसीटीवी खंगाले, जिसमें व्यापारी के इस इलाके से गुजरने की बात पता चली। पुलिस ने व्यापारी की काॅल डिटेल भी खंगाली। जिसके आधार पर पुलिस सेमरिया लिमोटी तक पहुंची। यहां संदेह के आधार पर बस्तीराम और दिलीप यदुवंशी को हिरासत में लेकर पूछताछ करने पर हत्या के बोर में कुछ जानकारी सामने आई।

रुपयों का लेनदेन बनी वजह
पुलिस सूत्रों के मुताबिक हत्या के मामले में रुपयों का लेनदेन खास वजह बनी। मृतक कोयले के व्यापार के अलावा ब्याज पर रुपए देने का काम करता था। एसडीओपी नम्रता सोंधिया ने बताया कि दो को हिरासत में लिया गया है। आरोपियों ने व्यापारी की हत्या कर शव गड़ा दिया था। वह जिस तरह से लाखों का आसामी था। उस लिहाज से रुपयों के लेनदेन की तस्दीक कराई जा रही है।