सर्दी, जुकाम, बुखार की दवा खरीदने वालों की रखी जाएगी जानकारी, इन राज्यों ने उठाया बड़ा कदम

देश

Tv24Indianews
19 Apr. 2020 08:41
+नई दिल्ली। कोरोना वायरस संकट के बीच कई लोग ऐसे हैं जो सर्दी, जुकाम और बुखार की दवाएं खरीद रहे हैं और उसे अपने पास एहतियात के तौर रख रहे हैं। ऐसे में कई प्रदेश सरकारों ने एक बड़ा कदम उठाया है। आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, बिहार और महाराष्ट्र ने तमाम मेडिकल शॉप और फार्मेसी को निर्देश दिया है कि वह उन लोगों के नाम का रिकॉर्ड रखें जो बुखार, कोल्ड और खांसी की दवा खरीद रहे हैं। आंध्र प्रदेश, तेलंगाना की सरकार हर रोज इन तमाम आंकड़ों को इकट्ठा करेगी और ये दवा खरीदने वालों का कोरोना वायरस टेस्ट करेगी।

सभी दुकानदारों को दिया गया निर्देश

दरअसल इस बात की चिंता है कि इस तरह की दवाएं खाने से कोरोना वायरस के लक्षण दब जाते हैं ताकि लोग कोरोना टेस्ट से बच सके और उन्हें 14 दिन तक क्वारेंटाइन में ना रखा जाए। तेलंगाना के एक अधिकारी ने बताया कि ऐसे कई मामले सामने आए हैं जहां लोगों ने खुद से सर्दी, जुकाम और बुखार की दवा खाई थी और बाद में इन लोगों का कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आया था। शुक्रवार को तेलंगाना सरकार की ओर से सभी डीएम को निर्देश दिया गया है कि आप लोग सभी मेडिकल शॉप मालिकों को निर्देश दें कि वह सर्दी, जुकाम बुखार, खांसी की दवा खरीदने वालों की जानकारी अपने पास दर्ज करें। यही नहीं दुकानदारों को लोगों को यह सलाह भी देनी होगी कि वह कोरोना वायरस का टेस्ट कराएं, यह उनके हित के लिए ही है।

व्हाट्सएप पर देनी होगी जानकारी

एक अधिकारी ने बताया कि यह जरूरी है कि लोग बुखार या मिलते जुलते लक्षण की दवा खुद ना लें, बल्कि इसकी जानकारी डॉक्टर को दें। आंध्र प्रदेश सरकार ने एक कंट्रोल रूम का गठन किया है, जिसमे दो डॉक्टर होंगे और ऐसे लोगों का टेस्ट करेंगे जो टेस्ट कराने से हिचकते हैं। पुणे पुलिस ने भी ऐसा ही निर्देश तमाम मेडिकल शॉप को दी है। इन तमाम लोगों की लिस्ट को हर रोज रात 8 बजे से पहले व्हाट्सएप पर साझा करना होगा। पुणे के ज्वाइंट कमिश्नर रवींद्र शिसावे ने यह निर्देश जारी किया है।

लगातार देश में बढ़ रहा संक्रमण

बिहार के स्वास्थ्य विभाग ने भी तमाम दुकानदारों को यह निर्देश दिया है कि वह रिकॉर्ड को स्वास्थ्य विभाग के साथ साझा करें। बता दें कि भारत में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 14792 तक पहुंच गई है, जबकि इस संक्रमण की वजह से 488 लोगों की मौत हो चुकी है। संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए देश में 3 मई तक लॉकडाउन का ऐलान किया गया है।