दिव्यांग मतदाता के लिए विशेष व्यवस्थायें

बैतूल

निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार बिना लाइन में लगे वोट डाल सकेंगे दिव्यांग मतदाता मतदान कक्ष तक व्हीलचेयर से जाने की भी होगी अनुमति

बैतूल। लोकसभा चुनाव में अधिक से अधिक दिव्यांग मतदाता अपने मताधिकार का उपयोग कर सकें इसके लिए निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार जिले में विशेष व्यवस्थायें की जा रही हैं।  दिव्यांग मतदाताओं के लिए प्रत्येक मतदान केन्द्र में जहां रैम्प बनाये गये हैं, वहीं चिन्हित मतदान केन्द्रों पर व्हीलचेयर अथवा ट्राइसाइकिल की उपलब्धता सुनिश्चित की जा रही है।  मतदान केन्द्र पर दिव्यांग मतदाताओं की सहायता के लिए दिव्यांग मित्र भी नियुक्त किए जाएंगे।  जिला निर्वाचन कार्यालय के अनुसार दिव्यांग मतदाताओं को मतदान में किसी तरह की असुविधा न हो इस लिये उन्हें व्हील चेयर/ट्राई साइकिल मतदान कक्ष तक जाने की अनुमति दी जायेगी। दिव्यांग मतदाताओं को बिना कतार में लगे सीधे मतदान करने की अनुमति भी होगी। मतदान केन्द्रों पर तैनात किये जा रहे मतदान कर्मियों को भी मतदान में दिव्यांगों की सहायता के निर्देश दिये गये हैं। ऐसे मतदाता जिनके पास दिव्यांग मतदाता वाली पर्ची होगी उसे मतदान कक्ष तक ले जाने के निर्देश मतदान कर्मियों को दिये गये हैं।  जिला निर्वाचन कार्यालय के अनुसार मूक-बधिर मतदाताओं की सहायता हेतु  सांकेतिक भाषा का भी प्रशिक्षण मतदान दलों को दिया जायेगा। जबकि ऐसे मतदान केन्द्र जहां नेत्रहीन मतदाताओं की संख्या अधिक है वहां इन मतदान केन्द्रों पर दिव्यांग मतदाताओं की सहायता के लिए ब्रेललिपि में डमी बैलेट पेपर भी रखे जायेंगे। नेत्रहीन मतदाताओं को मतदान में सहायता के लिए सहायक रखने की अनुमति भी होगी। इसके साथ ही ईव्हीएम मशीनों की बैलेट यूनिट में ब्रेललिपि में दर्ज उम्मीदवार क्रमांक की सहायता से भी नेत्रहीन मतदाता वोट डाल सकेंगे। जिला निर्वाचन कार्यालय के मुताबिक ऐसे मतदान केन्द्रों जहां दिव्यांग मतदाताओं की संख्या अधिक है वहां दिव्यांग मतदाताओं को मतदान केन्द्र तक आने-जाने के लिए वाहन सुविधा भी उपलब्ध कराई जायेगी। दिव्यांग मतदाताओं के अलावा निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार बुजुर्ग मतदाताओं और गर्भवती मतदाताओं के लिए भी विशेष व्यवस्थायें की गई हैं।  ऐसे मतदाता भी बिना लाइन में लगे सीधे मतदान कर सकेंगे।