डीडी उइके भाजपा से लोकसभा प्रत्याशी तय

बैतूल हरदा

सांसद ज्योति धुर्वे का जाति प्रमाण पत्र फर्जी पाए जाने के बाद जिस तरह से उनकी टिकट कटना तय माना जा रहा था। आखिरकार दस वर्षों से सांसद ज्योति धुर्वे का टिकट कट गया है।

बैतूल। सांसद ज्योति धुर्वे का जाति प्रमाण पत्र फर्जी पाए जाने के बाद जिस तरह से उनकी टिकट कटना तय माना जा रहा था। आखिरकार दस वर्षों से सांसद ज्योति धुर्वे का टिकट कट गया है। भाजपा ने गायत्री परिवार से जुड़े और शिक्षक डीडी उइके के नाम पर मोहर लगा दी है। शनिवार रात उइके को भाजपा ने अपना लोकसभा प्रत्याशी घोषित कर दिया है।कांग्रेस प्रत्याशी की घोषणा में पीछे रह गई है। हालांकि कांग्रेस पार्टी से भी रामू टेकाम का नाम तय माना जा रहा है,लेकिन अधिकृत घोषणा नहीं हो सकी है। भाजपा से टिकट के अन्य दावेदार बुद्धपाल सिंह, पूर्व विधायक मंगल सिंह धुर्वे, गंगा उइके, कुवर विजय शाह आदि शामिल थे,लेकिन डीडी उइके को अंत में फाइनल किया गया है। डीडी उइके संघ से भी जुड़े हैं,जिससे उन्हें संघ की भी पसंद बताया जा रहा है। उइके का नाम फाइनल होते ही भाजपा कार्यकर्ता में उत्साह का माहौल है। कार्यकर्ताओं द्वारा पटाखे भी फोड़े गए। डीडी उइके को जब अपनी टिकट फाइनल होने की सूचना मिली वे ग्राम नांदा में थे। यहां पर एक सामाजिक कार्यक्रम में शामिल होने आए थे। उइके ने बताया कि पार्टी ने उन पर भरोसा जताया है। वे लोगों की उम्मीदों पर खरा उतरने का पूरा प्रयास करेंगे। पूर्व सांसद और भाजपा पार्टी के प्रदेश कोषाध्यक्ष हेमंत खंडेलवाल ने बताया कि पार्टी हाइकमान ने बैतूल-हरदा और हरसूद लोकसभा क्षेत्र से डीडी उइके को अधिकृत प्रत्याशी घोषित कर दिया है। देर शाम इसकी घोषणा भी हो गई है। 

उम्मीदवार की घोषणा में कांग्रेस पिछड़ी

लोकसभा चुनाव में प्रत्याशी की घोषणा में कांग्रेस पार्टी एक बार फिर पिछड़ गई है,लेकिन सबसे ऊपर आदिवासी संगठन से जुड़े रामू टेकाम का नाम है। उनके नाम की भी अधिकृत घोषणा पार्टी कर सकती है। वही दूसरे नंबर पर कांग्रेस नेत्री पुष्पा पन्द्राम का नाम है। कांग्रेस पार्टी में अंदुरुनी कलह के चलते किसी एक उम्मीदवार के नाम पर सहमति नहीं बन पा रही है। पार्टी के पदाधिकारी अपने उम्मीदवार के लिए जोर लगा रहे हैं। इसके लिए भोपाल और दिल्ली के चक्कर काट रहे हैं।