आदर्श आचरण संहिता का सख्ती से पालन हो: कलेक्टर

प्रदेश

बैतूल। भारत निर्वाचन आयोग द्वारा लोकसभा आम निर्वाचन का कार्यक्रम घोषित करते ही जिले में आदर्श आचरण संहिता लागू हो गयी है। कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्री तरूण कुमार पिथोड़े ने जिले में सभी अधिकारी और कर्मचारियों को सख्त हिदायत देते हुए कहा है कि वे आदर्श आचरण संहिता का स्वयं पालन तो करें ही, साथ ही वे दूसरों से भी करवाएं। निर्वाचन संबंधी निर्देश, नियम, कानून एवं आदर्श आचरण संहिता का उल्लंघन किसी भी हाल में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। इनका उल्लंघन पाये जाने पर संबंधित व्यक्तियों के विरूद्ध सख्त कार्रवाई की जाएगी। शासकीय विभागों के अधिकारियों-कर्मचारियों से कहा गया है कि वे निष्पक्ष रहने के साथ निष्पक्ष दिखाई भी दें।
जिले में स्वतंत्र एवं निष्पक्ष निर्वाचन के लिये विभिन्न मार्गदर्शी निर्देश जारी किये गये हैं। जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि आदर्श आचरण संहिता लागू होने से जिले में अब कोई नए निर्माण कार्य न तो स्वीकृत होंगे और न ही शुरू किये जायेंगे। निर्माण कार्यो के लिये शिलान्यास और लोकार्पण भी नहीं किया जा सकेगा। श्री पिथोड़े ने निर्देश दिये हैं कि जिन निर्माण कार्यों के लिये प्रशासकीय स्वीकृति जारी हो गयी है। उनका निर्माण कार्य प्रारंभ नहीं किया जाए। जो कार्य शुरू हो गये हैं उनका निर्माण पूर्ण होने पर लोकार्पण नहीं कराया जाए। संधारण के नाम पर नवनिर्माण नहीं कराया जाए। हितग्राही मूलक योजनाओं में किसी भी नये हितग्राही को लाभान्वित नहीं किया जाएगा। तदनुसार जिले में नए बीपीएल कार्ड बनाने, नवीन पेंशन स्वीकृत करने तथा हितग्राही मूलक योजनाओं में आवेदन स्वीकृति की प्रक्रिया नहीं की जाएंगे।

सम्पत्ति विरूपित करने वालों के विरूद्ध भी होगी कार्रवाई

कलेक्टर श्री पिथोड़े ने मध्यप्रदेश सम्पत्ति विरूपण अधिनियम के संबंध में अधिकारियों से कहा है कि इस अधिनियम का प्रभावी पालन सुनिश्चित किया जाए। अवैध रूप से लगे पोस्टर, बैनर और होर्डिंग हटाने की कार्रवाई शुरू कर दी गयी है। उन्होंने इस कार्रवाई को तेज गति से करने के निर्देश अधिकारियों को दिये। जिले में अवैध रूप से लगे पोस्टर, बैनर, होर्डिंग तथा अन्य प्रचार सामग्री हटाने के लिये दलों का गठन कर लिया गया है। इस संबंध में ग्रामीण क्षेत्र में जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों को भी आवश्यक निर्देश जारी कर दिये गये हैं। साथ ही उन्होने समस्त विभाग प्रमुखों को भी आदेशित किया कि वे अपने स्तर से भी सुनिश्चित करेंगे कि उनके किसी भी शासकीय कार्यालय या संस्था की दीवार पर किसी भी प्रकार का नारा या योजना संबंधी जानकारी अंकित नहीं है, यदि कहीं पर है तो उसे अविलंब पुतवाएं।

बगैर अनुमति के जुलूस, रैली, सभा आदि का आयोजन प्रतिबंधित

निर्वाचन के दौरान बगैर अनुमति के जुलूस, रैली, सभा आदि का आयोजन प्रतिबंधित रहेगा। इनके लिये सक्षम प्राधिकारी से अनुमति लेना होगी। इन आयोजनों में कोलाहल नियंत्रण अधिनियम का पालन भी करना होगा। सभा, रैली, जुलूस का आयोजन शासकीय स्कूल, कॉलेज एवं अस्पताल के समीप नहीं होगा। आमसभा की अनुमति पहले आओ पहले पाओ के आधार पर दी जाएगी। इसके लिये एक रजिस्टर संधारित किया जाएगा, जिसमें आवेदन प्राप्ति का समय और तिथि का स्पष्ट उल्लेख होगा। यातायात को प्रभावित करने वाले स्थानों पर भी अनुमति नहीं दी जाएगी।