पाढर में मनाया अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस

बैतूल

बैतूल। 8 मार्च को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर जिले भर में कार्यक्रमों का आयोजन किया गया खासतौर से सरकारी दफ्तरों या प्राइवेट ऑफिस में भी महिला कर्मचारियों को सम्मानित करते हुए महिला दिवस पर महिलाओं के प्रति अपने-अपने तरीके से अपने विचारों को रखने का सिलसिला भी जारी रहा।
इसी श्रृंखला में बैतूल से लगभग 20 किमी दूर एनएच 47 पर स्थित पाढर ग्राम में अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर स्थानीय मंगल भवन में कार्यक्रम का आयोजन किया गया।
जिसमें मुख्य अतिथि पाढऱ चौकी प्रभारी लक्ष्मी आवास्या, सिल्विया वडीवा, कैथवास मैडम, बबिता मरकाम, चंदा राठौर, ज्योति गुप्ता, भानुमति उईके, रमिया मैडम, सुनीता उइके, मुनी राठौर एवं बालिकाएँ। आंतरराष्ट्रीय महिला दिवस कार्यक्रम कमलेश काकोडिय़ा, प्रकाश श्रीवास के नेतृत्व में किया गया । कार्यक्रम को संबोधित करते हुए चौकी प्रभारी लक्ष्मी आवास्या ने अपने उद्बोधन में महिलाओं को आत्मनिर्भर बनने तथा अपने स्वयं निर्णय लेने की क्षमता का विकास करने के विषय में विचार व्यक्त किये। वहीं श्रीमती सिल्विया वाडीवा ने 8 मार्च को ही अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाने के कारणों के विषय में जानकारी देते हुए बताया कि सबसे पहले यह दिन 1908 में मनाया गया था इस हिसाब से इस बार 109 वां महिला दिवस मनाया जा रहा है। यानी विश्व में 109 सालों से महिलाओं के अधिकारों को लेकर आवाज उठाई जा रही है और आज भी यह सिलसिला कायम है।
इस मौके पर प्रमुख रूप से ग्राम के गेलेंद्र राठौर, उपसरपंच प्रमोद दुफारे, गंभीर रघुवंशी, ज्ञानसिंग टेकाम, सचिव बलसिंग इवने, सूरज दीक्षित, पुलकित राठौर, मुकेश नवड़े एवं समस्त ग्रामवासी उपस्थिति थे।