chit-fund

चिटफंड कंपनियों के खिलाफ लोस चुनाव के पूर्व होगा उग्र आंदोलन

बैतूल

निवेशकों ने दी चेतावनी, जमा धन वापस नहीं तो मतदान भी नहीं

बैतूल। विगत 30 वर्षों से विभिन्न चिटफंड कंपनियों ने जिले में मध्यमवर्गीय परिवार व पिछड़े परिवारों को अपने झांसे में लेकर रुपए जमा करवाकर करोड़ों का घोटाला किया है। चिटफंड कंपनियों में निवेश की गई राशि वापस लेने के लिए निवेशक वर्षों से परेशान हो रहे हैं। इन चिटफंड कंपनियों में निवेश की गई राशि चुनाव के पहले निवेशकों को नहीं मिली तो उन्होंने उग्र आंदोलन की चेतावनी दी है। इस संबंध में सामाजिक कार्यकर्ता दिलीप धुर्वे ने बताया कि जिले में विगत 30 वर्षों से जीवन सुरभि, जीवन डेयरी, एचबीएन डेयरी, पीएसीएल, संचयनी, समृद्धि, साईं प्रसाद, साईं प्रकाश जैसी अनेक चिटफंड कंपनियों ने जिले में अपना जाल बिछाकर बेरोजगार लोगों को रोजगार देने के नाम पर फसाया और मोटी रकम लेकर फरार हो गई। इन निवेशकों का मानना है कि चिटफंड कंपनियों के फरार होने का मुख्य कारण सरकार ही है क्योंकि सरकार के माध्यम से ही कंपनियों को कारोबार करने के लिए लाइसेंस मिलता है। इसलिए निवेशकों का पैसा दिलाने की जिम्मेदारी सरकार की है। निवेशकों का कहना है कि अब वह सरकार बदलने की काबिलियत रखते हैं। लोकसभा चुनाव के पूर्व यदि निवेशकों की जमा रकम वापस नहीं की गई तो वह मतदान का भी बहिष्कार कर देंगे।