उज्जैन हादसा: मृतकों के परिजन को मुख्यमंत्री सहायता कोष से 2-2 लाख रुपए की आर्थिक सहायता

प्रदेश

मध्यप्रदेश के उज्जैन के समीप देर रात हुए भीषण सड़क हादसे में मरने वाले सभी 12 लोगों का क्षिप्रा नदी के किनारे चक्रतीर्थ घाट पर अंतिम संस्कार कर दिया गया

भोपाल। मध्यप्रदेश के उज्जैन के समीप देर रात हुए भीषण सड़क हादसे में मरने वाले सभी 12 लोगों का क्षिप्रा नदी के किनारे चक्रतीर्थ घाट पर अंतिम संस्कार कर दिया गया।
आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भीषण सड़क हादसे पर दु:ख जताते हुए सभी मृतकों के परिजन को मुख्यमंत्री सहायता कोष से 2-2 लाख रुपए की सहायता राशि देने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने घायलों का निःशुल्क समुचित उपचार कराने के भी निर्देश दिए हैं।
पुलिस सूत्रों के अनुसार शहर से लगभग दस किलोमीटर दूर उज्जैन-नागदा रोड के रामगढ फंटे के मोड़ के पास बीती रात नागदा कस्बे से एक शादी के कार्यक्रम से लौट रहे लोगों का वाहन सामने से आ रहे वाहन से टकरा गया। सीधी भिडंत में एक ही परिवार के 12 लोगों की मौत हो गई।
मृतकों की पहचान चंचल, अंजली, शुभम, अर्जुन, राजूबाई, धर्मेन्द्र, सलोनी, राधिका, रवीना, कशिश, तेजाबाई व कुलदीप के तौर पर हुई है। सभी का आज सुबह जिला अस्पताल में पोस्टमार्टम कर शव परिजन को सौंप दिए गए।
मृतक परिवार के भाई अलग-अलग रहते थे, लेकिन शवयात्रा एक भाई के निवास स्थान नगरकोट से एक साथ निकली। आधा दर्जन शव वाहनों से सभी शव चक्रतीर्थ घाट लाए गए, जहां उनका अंतिम संस्कार किया गया।
जिले के प्रभारी मंत्री सज्जन कुमार वर्मा ने दर्दनाक हादसे पर दुख व्यक्त करते हुए ईश्वर से मृतकों के परिजन को इस आघात को सहन करने की शक्ति प्रदान करने की प्रार्थना की।